Marital rape : क्या पति कर सकता है पत्नी के साथ जबर्दस्ती? जानें देश में इससे जुड़ा कानून और अन्य देशों का हाल

Photo Source :

Posted On:Tuesday, May 17, 2022

दिल्ली न्यूज डेस्क !!! दिल्ली हाई कोर्ट की दो जजों की बेंच ने बुधवार को मैरिटल रेप केस में फैसला सुनाया। जहां एक न्यायाधीश ने अनुच्छेद 375 को संविधान के अनुच्छेद 14 का उल्लंघन पाया। इसलिए दूसरे जज ने वैवाहिक बलात्कार को अपराध नहीं पाया। दिल्ली हाईकोर्ट के खंडित फैसले के बाद एक बार फिर वैवाहिक बलात्कार का मामला चर्चा में है। कानूनी विशेषज्ञों समेत समाज के लोगों की राय भी बंटी हुई है। वैवाहिक बलात्कार आखिर है क्या? क्या कहता है भारत का कानून? अन्य देशों में इस संबंध में क्या प्रावधान है? आइए आपको बताते हैं इस मामले से जुड़े ऐसे तमाम सवालों के बारे में।
भारत में वैवाहिक बलात्कार - iPleaders

वैवाहिक बलात्कार क्या है?

जब कोई पति अपनी पत्नी की सहमति के बिना उसका यौन उत्पीड़न करने के लिए किसी भी प्रकार का बल प्रयोग करता है तो इसे वैवाहिक बलात्कार कहा जाता है। ऐसे मामलों में, पति अक्सर पत्नी को उसकी सहमति के बिना संबंध बनाने के लिए मजबूर करता है और उसे नुकसान पहुंचाता है या किसी बात का डर दिखाता है।

क्या कहता है भारत का कानून?

यदि कोई महिला अपने पति के खिलाफ बलात्कार की शिकायत करती है, तो उस पर बलात्कार का आरोप नहीं लगाया जा सकता है। भारतीय कानून में, वैवाहिक बलात्कार आईपीसी की धारा 375 के तहत एक अपवाद है। धारा 375 यदि पत्नी की आयु 18 वर्ष से अधिक है और पति ने उसकी इच्छा के विरुद्ध जबरन उसके साथ संबंध बनाए हैं तो यह बलात्कार नहीं माना जाता है।
वैवाहिक बलात्कार को अपराध मानना भारत में व्यवहारिक नहीं - Marital rape  considered to crime is not practical in India '

वैवाहिक बलात्कार के बारे में सरकार क्या सोचती है?

वैवाहिक बलात्कार को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने कड़े कानून का समर्थन किया है। सरकार का मानना ​​है कि इस प्रकार कानून एक विवाहित महिला के लिए अपने पति के यौन उत्पीड़न को रोकने के लिए एक कानूनी उपकरण के रूप में काम करेगा। सरकार के अनुसार, वैवाहिक बलात्कार का अपराधीकरण भारतीय समाज में विवाह प्रणाली को अस्थिर कर सकता है। इसलिए इसकी रोकथाम और महिलाओं की सुरक्षा और सम्मान के लिए इस कानून की तत्काल आवश्यकता है।
The decision to declare marital rape a crime did not reach any conclusion  SC can go to the case htzs | किसी नतीजे पर नहीं पहुंचा वैवाहिक बलात्कार को  अपराध घोषित करने

वैवाहिक बलात्कार कितने देशों में अपराध है?

वैवाहिक बलात्कार को अपराध घोषित करने वाला पोलैंड दुनिया का पहला देश है। पोलैंड ने 1932 में वैवाहिक बलात्कार के खिलाफ एक कानून पारित किया। तब से, वर्ष 2018 की एक रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया में कुल 77 देश ऐसे हैं जहां वैवाहिक बलात्कार को अपराधी बनाने के लिए स्पष्ट कानून बनाए गए हैं। 74 देश ऐसे हैं जहां महिलाओं को अपने पति के खिलाफ बलात्कार के लिए आपराधिक शिकायत दर्ज करने का अधिकार है। वहीं, दुनिया भर में 34 देश ऐसे हैं जहां वैवाहिक बलात्कार न तो अपराध है और न ही महिलाओं को वैवाहिक बलात्कार के लिए अपने पति के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज करने का अधिकार है। 34 देशों की सूची में भारत भी शामिल है। दुनिया के 12 देशों में यह प्रावधान है कि रेप का आरोपी अगर पीड़िता से शादी कर लेता है तो उसे बरी कर दिया जाता है।


जयपुर और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



You may also like !

मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Jaipurvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.