Ganesh Chaturthi 2022 : राजस्थान का ये गणेश मंदिर है बेहद अनोखा, सोने के कटोरे में दिया जाता था भक्तों को प्रसाद !

Photo Source :

Posted On:Tuesday, August 30, 2022

इस साल 31 अगस्त से गणेश चतुर्थी का उत्सव शुरू होने जा रहा है। विघ्नहर्ता गणेश की महिमा पूरे विश्व में फैली हुई है। तो आज हम आपको जयपुर की पुरानी राजधानी आमेर में सफेद आकृतियों से बने गणेश जी के मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं। सूर्यवंश शैली में बना 450 साल पुराना 16वीं सदी का महल, आमेर रोड पर सफेद रंग का गणपति मंदिर देखने लायक है।

असाध्य रोगों के इलाज के लिए लोग यहां पहुंचते हैं। इसके साथ ही कई ज्योतिषियों की भी मंदिर में विशेष मान्यता है। गणेश की यह छवि सफेद आकृतियों से बनी है। आमेर को छोटीकाशी के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यहां लगभग 365 मंदिर बने हैं। इन सभी मंदिरों में श्वेत अर्का गणेश मंदिर की अपनी अनूठी विशेषताएं हैं। आमतौर पर पत्थर से बने गणेश, राख से बने गणेश की मूर्तियां होती हैं। तो आइए आपको बताते हैं इस मंदिर की खास बातों के बारे में।

सूर्यमुखी गणेश की विशेषताएं -

जयपुर की पुरानी राजधानी आमेर के इस मंदिर में सफेद अर्क की मूर्ति के नीचे एक पत्थर की गणेश प्रतिमा भी स्थापित है। पूर्व की ओर मुख वाली दोनों मूर्तियों में भगवान गणेश की बाईं सूंड है। इसलिए इसे सूर्यमुखी गणेश भी कहा जाता है। महाराजा मानसिंह प्रथम ने यहां 18 स्तंभों का मंदिर बनवाया था और गणेश को विराजमान किया था। कई साल पहले बावड़ी थी, पानी के ऊपर एक खंभा बनाकर गणेश जी विराजमान थे।

शादी के निमंत्रण आदि यहां डाक या कुरियर से भेजे जाते हैं। गणेश चतुर्थी पर मेला लगाने के साथ ही आमेर कुंड स्थित गणेश मंदिर से जुलूस गणेश की प्रतिमा के साथ समाप्त होता है। महंत ने कहा कि चौथी पीढ़ी मंदिर में सेवा कर रही है, जब राजा मानसिंह यहां अनुष्ठान करते थे, तो भगवान गणेश के सामने प्रसाद के कटोरे में प्रतिदिन 125 ग्राम सोना चढ़ाया जाता था।

घुड़सवार चकित रह गए -

महंत चंद्रमोहन शर्मा ने कहा कि यह दुर्लभ प्रतिमा महाराजा मानसिंह प्रथम ने जयपुर की स्थापना से पहले हिसार हस्तिनापुर से लाई थी। इस मूर्ति को वापस लाने के लिए हिसार के राजा ने अपने घुड़सवारों को आमेर भेजा। महाराजा ने सफेद अर्क गणेश के बगल में एक और पत्थर की मूर्ति बनाई, जिसने घुड़सवारों को आश्चर्यचकित कर दिया और दोनों बच्चों की मूर्तियों को यहीं छोड़ दिया, तब से ये ढाई फीट की मूर्तियाँ बावड़ी में स्थित हैं।


जयपुर और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Jaipurvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.