Fact Check: क्या गृह मंत्री अमित शाह ने कबूल किया मुख्तार अंसारी की मौत में है सरकार का हाथ, जानें क्या है इस वीडियो की सच्चाई

Photo Source :

Posted On:Tuesday, April 2, 2024

उत्तर प्रदेश के माफिया मुख्तार अंसारी की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई, उनके बेटे ने कहा कि उनके पिता को जेल में धीमा जहर दिया गया था। इसके बाद लोगों ने हत्या की आशंका जताई और सीबीआई जांच की मांग करने लगे। इस संबंध में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह नजर आ रहे हैं. इस वीडियो को लेकर लोग दावा कर रहे हैं कि अंसारी की मौत में सरकार का हाथ है. हमारी जांच में यह दावा भ्रामक निकला.

क्या दावा किया गया था?

@PoojaMathur01 नाम का सोशल मीडिया यूजर दावा कर रहा है कि अमित शाह ने कहा है कि अतीक अहमद से लेकर मुख्तार अंसारी तक सभी को भारतीय जनता पार्टी सरकार ने रिहा कर दिया है. वीडियो के कैप्शन में यह भी लिखा है, "अमित शाह सार्वजनिक मंच से कह रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी ने अतीक अहमद से लेकर मुख्तार अंसारी तक सबको मुक्त कर दिया है! अब कहने और सुनने के लिए और क्या बचा है? एक तो गृह मंत्री इतने बड़े हैं।" "इस तथ्य के बावजूद कि उच्च न्यायालय कोई संज्ञान नहीं ले रहा है, समझ लें कि हर कोई इससे सहमत है।"

उन्होंने आगे लिखा, ''यह क्लिप अतीक अहमद और मुख्तार अंसारी के परिवार के सदस्यों के लिए अदालत में यह कहने के लिए काफी है कि यह मौत नहीं बल्कि हत्या थी। जो लोग चले गए उन्हें वापस नहीं लाया जा सकता लेकिन जो जीवित हैं उनके लिए आवाज उठाई जा सकती है।'' . इससे पहले कि आजम खान के साथ भी ये साजिश हो जाए, संवैधानिक तौर पर अपनी आवाज उठाना शुरू करें.''

जांच में क्या पता चला?

हमें इस वीडियो पर इसलिए शक हुआ क्योंकि अमित शाह अपने बयान में कह रहे थे कि अगर एसपी-बीएसपी का गठबंधन हुआ तो यूपी में फिर से निज़ाम राज आ जाएगा. आपको बता दें कि इस लोकसभा चुनाव 2024 में एसपी-बीएसपी का गठबंधन नहीं है, दोनों पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं. ऐसे में जब इंडिया टीवी की फैक्ट चेक टीम ने पड़ताल शुरू की तो पता चला कि ये वीडियो साल 2019 का है. साल 2019 में ही एसपी-बीएसपी यूपी में गठबंधन बनाकर लोकसभा चुनाव लड़ रहे थे. हमें बीजेपी के सोशल मीडिया पर इस वीडियो का लिंक भी मिला.

भाजपा ने यूपी को निजाम से मुक्ति दिलाई है।

निजाम का मतलब है-

नसीमुद्दीन सिद्दीकी से मुक्ति
इमरान मसूद से मुक्ति
आजम खान से मुक्ति
अतीक अहमद से मुक्ति और
मुख्तार अंसारी से मुक्ति: श्री अमित शाह #ModiOnceMore pic.twitter.com/FJeuDEz5CT

— BJP (@BJP4India) April 10, 2019

निष्कर्ष क्या था?

इंडिया टीवी की जांच में पता चला कि वीडियो साल 2019 का है, जब 26 मार्च 2024 को मुख्तार अंसारी की मौत हो गई थी, इसलिए वीडियो को भ्रामक दावों के साथ शेयर किया जा रहा है। उपयोगकर्ताओं को इसके बारे में पता होना चाहिए।


जयपुर और देश, दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें



मेरा गाँव मेरा देश

अगर आप एक जागृत नागरिक है और अपने आसपास की घटनाओं या अपने क्षेत्र की समस्याओं को हमारे साथ साझा कर अपने गाँव, शहर और देश को और बेहतर बनाना चाहते हैं तो जुड़िए हमसे अपनी रिपोर्ट के जरिए. Jaipurvocalsteam@gmail.com

Follow us on

Copyright © 2021  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.